* पदयात्रा को उदधाटनस्थल से पहले ही पुलिस ने रोका* मुख्यमंत्री से मिलने को लेकर अड़े माले कार्यकर्ता व पुलिस के बीच चलता रहा तकरार

🔊 Listen This News * तमाम धौंस- धमकी को धत्ता बताते हुए कड़ी सुरक्षा के बीच माले ने निकाला पदयात्रा * पदयात्रा को उदधाटनस्थल से पहले ही पुलिस ने रोका * आला अधिकारियों ने वार्ता कर मांगपत्र लेकर मनाया कार्यकर्ताओं को * ताजपुर के साथ सौतेलापूर्ण व्यवहार नहीं रूका तो इससे भी बड़ा आंदोलन- सुरेंद्र […]

 495 total views,  1 views today


* तमाम धौंस- धमकी को धत्ता बताते हुए कड़ी सुरक्षा के बीच माले ने निकाला पदयात्रा
* पदयात्रा को उदधाटनस्थल से पहले ही पुलिस ने रोका

* आला अधिकारियों ने वार्ता कर मांगपत्र लेकर मनाया कार्यकर्ताओं को
* ताजपुर के साथ सौतेलापूर्ण व्यवहार नहीं रूका तो इससे भी बड़ा आंदोलन- सुरेंद्र

समस्तीपुर::- जिले के ताजपुर प्रखंड तमाम धौंस-धमकी को धत्ता बताते हुए भाकपा माले के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने झंडे, बैनर से लैश होकर स्थानीय मोतीपुर खैनी गोदाम से पर जुटकर पुलिस अधिकारी की कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच न्याय दो पदयात्रा निकाला गया। मांगों से संबंधित नारे लगाते हुए पदयात्रा गांधी चौक से निकलकर मुख्य मार्ग होते हुए मुख्यमंत्री के आगमन स्थल जंगलाही पोखर की बढ़ ही रही थी कि पुलिस व आला अधिकारियों ने पदयात्रा गांधीचौक से दक्षिण रास्ते में ही रोक दिया।

पदयात्रा में शामिल कार्यकर्ताओं बहुत देर तक नारे लगाकर सीएम से मिलने के सवाल पर अड़े रहे। रस्सा- कस्सी चलती रही। इस वक्त खासकर महिला एवं छात्र- युवा कार्यकर्ताओं का जोश देखने लायक था। उन्हें शांत कराने में पुलिस अधिकारियों के भी पसीने छूट रहे थे।कमान कई मजिस्ट्रेट,दलसिंहसराय डीएसपी आदि संभाल रहे थे।

भाकपा माले के कार्यकर्ता ताजपुर को नगर पंचायत, पुनः अनुमंडल और विधानसभा का दर्जा देने, ताजपुर को रेल लाइन से जोड़ने, शौचालय प्रोत्साहन राशि तमाम लाभुकों को देने, भिंडे पर बसे भूमिहीनों को उजाड़ने से पहले वास भूमि एवं पर्चा देकर बसाने, प्रखण्ड में बालिका उच्च विद्यालय और महिला कॉलेज खोलने, मोतीपुर सब्जी मंडी में बाजार समिति जोड़कर शौचालय, पेयजल, बैंक, शेड, एटीएम देने, अलग से एग्रिकल्चर फीडर की व्यवस्था करने, बढते हत्या अपराध पर रोक लगाने, सरकारी जमीन को दबंगों से खाली कराने इत्यादि की मांग कर रहे थे। अंत में लंबे तकरार के बाद पुलिस एवं प्रशासन के आला अधिकारियों के मान- मनौअलल पर माले, आइसा, इनौस, ऐपवा, खेग्रामस एवं किसान महासभा के मुख्य कार्यकर्ताओं के प्रतिनिधिमण्डल ने मजिस्ट्रेट,डीएसपी आदि के नेतृत्व में मौके पर आये जिलाधिकारी को मांगों से संबंधित स्मार-पत्र देकर तमाम मांगों को तत्काल पूरा करने अन्यथा भविष्य में इससे भी बड़ा आंदोलन करने की चेतावनी दी। पदयात्रा में प्रखण्ड कमिटी सदस्य अनीता देवी, नीलम देवी, भाकपा माले जिला कमिटी सदस्य सह इनौस जिला सचिव आशिफ होदा, आइसा जिला अध्यक्ष सुनील कुमार, पंचायत समिति सदस्य नौशाद तौहिदी, किसान नेता ब्रहमदेव प्रसाद सिंह, मजदूर नेता प्रभात रंजन गुप्ता, बासुदेव राय, राजदेव प्रसाद सिंह, रवींद्र प्रसाद सिंह, सुनील पासवान,पलटन साह समेत अन्य दर्जनों मुख्य कार्यकर्ता शामिल रहे।


नेतृत्वकर्ता माले प्रखण्ड सचिव सुरेंद्र प्रसाद सिंह ने कहा कि पुलिस- प्रशासन दबंगों के कब्जे से सरकारी जमीन लेने का प्रयास करने के बजाय पोखर के भींडे से दलित- गरीब- भूमिहीन को उजाड़ने की नियत बना रखी है। यह अन्याय है। इसे माले बर्दाश्त नहीं करेगी। पदयात्रा को शानदार ढंग से सफल बनाने को लेकर माले सचिव सुरेंद्र ने ताजपुरवासी को तहे दिल से धन्यवाद ज्ञापन किया।

 496 total views,  2 views today