लक्ष्य योजना की रैंकिंग में सदर अस्पताल को मिले 85 प्रतिशत मार्क्स, अब सेंट्रल टीम करेगी जांच

🔊 Listen This News लक्ष्य योजना की रैंकिंग में सदर अस्पताल को मिले 85 प्रतिशत मार्क्स, अब सेंट्रल टीम करेगी जांच. • सदर अस्पताल को मिलेगा तीन लाख का इनाम • राज्य-स्तरीय टीम ने जारी किया रैंकिंग • मानक के अनुसार 65% से अधिक अंक हासिल करना अनिवार्य • प्रसव कक्ष को 85% व ऑपरेशन […]

 584 total views,  1 views today

लक्ष्य योजना की रैंकिंग में सदर अस्पताल को मिले 85 प्रतिशत मार्क्स, अब सेंट्रल टीम करेगी जांच.
• सदर अस्पताल को मिलेगा तीन लाख का इनाम
• राज्य-स्तरीय टीम ने जारी किया रैंकिंग
• मानक के अनुसार 65% से अधिक अंक हासिल करना अनिवार्य
• प्रसव कक्ष को 85% व ऑपरेशन थियेटर को 68% अंक
छपरा: लक्ष्य योजना के तहत चयनित सदर अस्पताल ने अपना लक्ष्य हासिल कर लिया है। इसको लेकर राज्य स्तरीय टीम ने रैंकिंग जारी की है। जिसमें सदर अस्पताल के प्रसव कक्ष को कुल 85 प्रतिशत एवं ऑपरेशन थियेटर को 68 प्रतिशत अंक मिले हैं। जबकि मानक के अनुसार 65 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त करना अनिवार्य होता है. राज्य-स्तरीय टीम अपनी रैंकिंग की रिपोर्ट केंद्रीय टीम को भेज चुकी है।

अब केंद्रीय टीम सदर अस्पताल का निरीक्षण करेगी। योजना के तहत सदर अस्पताल के प्रसव कक्ष व ऑपरेशन थियेटर में मिलने वाली सुविधाओ रैंकिंग किया जाता है। लक्ष्य योजना के तहत चयनित अस्पताल का तीन स्तर पर रैंकिंग किया जाता है। हलांकि ऑपरेशन थियेटर को 68 प्रतिशत अंक प्राप्त हुआ है, जो तय मानक से मात्र 3% ही अधिक है. इसमें जरुरी सुधार के लिए निर्देश भी दिए गए हैं.


अब केंद्रीय टीम करेगी जांच:
सिविल सर्जन डॉ. माधवेश्वर झा ने बताया कि राज्यस्तरीय टीम अपना जांच रिपोर्ट सरकार को सौंप चुकी है। सरकार द्वारा यह रिपोर्ट केंद्रीय टीम को भेजा जायेगा। जिसके बाद केंद्रीय टीम सदर अस्पताल का निरीक्षण कर क्वालिटी की जांच करेगी। अगर रैंकिंग में 70 प्रतिशत लक्ष्य प्राप्त होता है तो सदर अस्पताल को तीन लाख रूपये का इनाम दिया जाएगा. मुख्य रूप से अस्पतालों के प्रसव कक्ष तथा ऑपरेशन थिएटर को लक्ष्य कार्यक्रम के मानक के अनुरूप विकसित किया गया है।
70 प्रतिशत उपलब्धि पर सांत्वना पुरस्कार
तय मानकों के सापेक्ष 70 प्रतिशत उपलब्धि पर सांत्वना पुरस्कार दिए जाने का भी प्रावधान बनाया गया है। सांत्वना पुरस्कार के रूप में सदर अस्पताल को 3 लाख, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों या अनुमंडलीय अस्पतालों को 1 लाख एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों को 50 हजार रुपए दिए जाते हैं।
अस्पताल की गुणवत्ता की जाती है मैपिंग:
सदर अस्पताल अस्पताल की गुणवत्ता की मैपिंग की जाती है। जिसमें कुल आठ तरह के मूल्यांकन पैमाने बनाए गए हैं। इसमें अस्पताल की आधारिक संरचना के साथ अस्पताल में साफ़-सफाई का स्तर, स्टाफ की उपलब्धता, लेबर रूम के अंदर जरुरी संसाधनों की उपलब्धता के साथ ऑपरेशन थिएटर की भी मैपिंग की गयी है। दर अस्पताल का लक्ष्य कार्यक्रम के तहत प्रमाणिकरण किया जा रहा है।

प्रसव कक्ष तथा ऑपरेशन थियेटर को किया गया सुसज्जित:
लक्ष्य कार्यक्रम के तहत सभी संसाधनों व सुविधा उपलब्ध कराया गया है और लक्ष्य कार्यक्रम के मानकों के अनुरूप सदर अस्पताल के प्रसव कक्ष तथा ऑपरेशन थियेटर को सुसज्जित कर दिया गया है। प्रसव कक्ष और ऑपरेशन थियेटर को बेहतर बनाने से मरीजों को सुविधा व सहुलियत हो रही है।

तीन स्तर पर रैंकिंग:
लक्ष्य कार्यक्रम के तहत तीन स्तरों पर रैंकिंग की जाती है। पहले जिला स्तर पर, उसके बाद रिजनल स्तर पर और तृतीय चरण में राष्ट्रीय स्तर पर रैंकिंग की जाती है। प्रोत्साहन राशि प्राप्त करने के लिए न्यूनतम 75 अंक प्राप्त करना अनिवार्य होता है।
इन मानकों पर तय होते हैं पुरस्कार
• अस्पताल की आधारभूत संरचना
• साफ-सफाई एवं स्वच्छता
• जैविक कचरा निस्तारण
• संक्रमण रोकथाम
• अस्पताल की अन्य सहायक प्रणाली
• स्वच्छता एवं साफ़-सफाई को बढ़ावा देना

 585 total views,  2 views today