बिहार राज्य सहकारी बैंक छपरा शाखा से एक करोड़ 32 लाख की फर्जी निकासीशाखा प्रबंधक समेत चार के खिलाफ प्राथमिकी दर्जतीन सदस्यीय टीम की जांच के बाद दर्ज कराई गई प्राथमिकी

🔊 Listen This News बिहार राज्य सहकारी बैंक छपरा शाखा से एक करोड़ 32 लाख की फर्जी निकासी शाखा प्रबंधक समेत चार के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज छपरा : बिहार राज्य सहकारी बैंक लिमिटेड छपरा शाखा से एक करोड़ 32 लाख रुपए की फर्जी निकासी करने के मामले में तत्कालीन शाखा प्रबंधक समेत चार के खिलाफ […]

 565 total views,  1 views today

बिहार राज्य सहकारी बैंक छपरा शाखा से एक करोड़ 32 लाख की फर्जी निकासी

शाखा प्रबंधक समेत चार के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज

छपरा : बिहार राज्य सहकारी बैंक लिमिटेड छपरा शाखा से एक करोड़ 32 लाख रुपए की फर्जी निकासी करने के मामले में तत्कालीन शाखा प्रबंधक समेत चार के खिलाफ नगर थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई गयी। वर्तमान शाखा प्रबंधक मनोज कुमार ने प्रबंध निदेशक के आदेश के आलोक में यह कार्रवाई की है। उप महाप्रबंधक मनोज कुमार सिंह के नेतृत्व में 3 सदस्य टीम के द्वारा की गई जांच के बाद प्रबंध निदेशक ने प्राथमिकी दर्ज कराने का आदेश दिया है। दर्ज प्राथमिकी में कहा गया है कि षड्यंत्र के तहत सबसे पहले छह फर्जी खाते छह जनवरी 2017 से 11 जनवरी 2017 के बीच खोला गया। जांच के दौरान पाया गया कि मुन्ना दास नामक व्यक्ति को छोड़कर पांच अन्य व्यक्तियों के खाता खोलने का फॉर्म शाखा में उपलब्ध नहीं था। मुन्ना दास के कागजातों की जांच की गयी तो, सभी फर्जी पाये गये। इन सभी छह खातों के शाखा स्तर से संधारित चेक रजिस्टर में निर्गत चेक की प्रविष्टि नहीं की गई है। इन खातों में 17 नवंबर 2018 को 24 लाख, 25 जनवरी 2019 को 30 लाख, 25 अक्टूबर 2019 को 24 लाख राशि हस्तांतरित किया गया। जबकि 54 लाख रूपया फर्जी चेक से अवैध तरीके से निकासी कर ली गयी । इस मामले में तत्कालीन शाखा प्रबंधक अजय कुमार, सहायक राजकुमार गुप्ता, सहायक विनोद कुमार पाठक, तथा सहायक सौरभ सुमन को दोषी पाया गया है। जांच टीम ने रिपोर्ट में इस जालसाजी से जुड़े सभी अभिलेखों की फॉरेंसिक जांच कराए जाने की भी अनुशंसा की है। प्राथमिकी दर्ज होने के बाद पुलिस ने इससे संबंधित दस्तावेजों को तलब की है और फॉरेंसिक जांच कराने की प्रक्रिया शुरू की जा रही है।

 566 total views,  2 views today