*फर्जीवाड़े में शामिल अधिकारियों पर विश्वविद्यालय एवं प्रशासन कार्रवाई करे:- *आइसा। रमेश शंकर झा/एस कुमारी, समस्तीपुर बिहार। हर छोटी बड़ी खबरों के लिए 8709017809 पर संपर्क करें।*

रमेश शंकर झा/एस कुमारी, समस्तीपुर बिहार। समस्तीपुर:- जिले में आइसा कार्यकर्ताओं ने अपने-अपने हाथों में झंडे, बैनर एवं कुलपति का पूतला लेकर बड़ी संख्या बीआरबी काँलेज गेट से जुलूस निकाला जो आदर्शनगर, काशीपुर आदि क्षेत्रों के मुख्य सड़कों पर मांगों से संबंधित नारे लगाते हुए भ्रमण कर पुनः बीआरबी काँलेज गेट पहुँचकर जोरदार नारेबाजी किया। […]

रमेश शंकर झा/एस कुमारी,
समस्तीपुर बिहार।

समस्तीपुर:- जिले में आइसा कार्यकर्ताओं ने अपने-अपने हाथों में झंडे, बैनर एवं कुलपति का पूतला लेकर बड़ी संख्या बीआरबी काँलेज गेट से जुलूस निकाला जो आदर्शनगर, काशीपुर आदि क्षेत्रों के मुख्य सड़कों पर मांगों से संबंधित नारे लगाते हुए भ्रमण कर पुनः बीआरबी काँलेज गेट पहुँचकर जोरदार नारेबाजी किया। इसकी अध्यक्षता काँलेज कांसिलर अभिषेक प्रसाद यादव ने किया। सभा को आइसा प्रदेश उपाध्यक्ष चंदन कुमार बंटी ने संबोधित करते हुए कहा कि एलएनएमयू के छात्रसंघ अध्यक्ष बिना परीक्षा के ही फर्जीवाड़े से एमएससी में नामांकन करा लिया है। समस्तीपुर के बीआरबी काँलेज अध्यक्ष पर कई गंभीर मामले चल रहा है। इसकी जानकारी विश्वविद्यालय प्रशासन को है। इसके बाबजूद अध्यक्षद्वय को बर्खास्त नहीं किया गया है। यह तानाशाही है, बर्खास्तगी तक आइसा अन्य छात्र संगठनों के साथ मिलकर संघर्ष चलायेगी। जिला अध्यक्ष सुनील कुमार ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि बीआरबी काँलेज में शैक्षणिक वातावरण प्रभावित हुआ है। तथाकथिक छात्रसंघ के नाम पर कुछ पूर्ववर्ती छात्र काँलेज खुलने से पहले परिसर में पहुँचे रहते हैं। वह भोलेभाले व नये छात्रों से उनके काम करा देने के नाम पर रूपये उगाही कर लेते हैं। उनका नामांकन रसीद तक रख लेते हैं। इसकी जानकारी काँलेज प्रिंसिपल को भी है। लेकिन वह कारबाई करने से हिचकते हैं। आइसा नेताओं ने काँलेज की गरिमा बचाने एवं बेहतर शैक्षणिक वातावरण बनाने के लिए प्रिंसिपल के तबादले की मांग कीया है। इस मौके पर सभा को संबोधित करते हुए पूर्व अध्यक्ष मनीष राय, महासचिव अविनाश राय, परमित कुमार, प्रेम कुमार, राजू झा, ओम प्रकाश सिंह, मनीष यादव, रधुनाथ कुमार, प्रिंस कुमार, अविषेक गगन, आशिष कुमार यादव, संतोष कुमार समेत अन्य आइसा नेताओं ने संबोधित किया। अंत में एलएनएमयू वीसी का पूतला फूंककर विरोध जताया गया।