मैं हर चीज के लिए तैयार हूं : कुमारस्वामी

🔊 Listen This News कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस सरकार पर जारी संकट और गहराता जा रहा है। राज्य के मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने विधानसभा में अध्यक्ष  से कहा कि विश्वास मत कराने का फैसला लिया है, कृपया इसके लिए समय तय करें। उन्होंने कहा कि मैं हर चीज के लिए तैयार हूं। सत्ता से चिपकने के लिए […]

 265 total views,  1 views today

कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस सरकार पर जारी संकट और गहराता जा रहा है। राज्य के मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने विधानसभा में अध्यक्ष  से कहा कि विश्वास मत कराने का फैसला लिया है, कृपया इसके लिए समय तय करें। उन्होंने कहा कि मैं हर चीज के लिए तैयार हूं। सत्ता से चिपकने के लिए यहां नहीं हूं। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट में बागी विधायकों के मामले में सुनवाई हुई। कोर्ट ने सवाल किया कि क्या अध्यक्ष को शीर्ष अदालत के आदेश को चुनौती देने का अधिकार है। 10 बागी विधायकों के इस्तीफों के मामले में फैसला करने का निर्देश देने के शीर्ष अदालत के गुरूवार के आदेश के खिलाफ कर्नाटक विधानसभा के अध्यक्ष के. आर. रमेश की याचिका पर सुनवाई के दौरान यह सवाल किया।प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता और न्यायमूर्ति अनिरूद्ध बोस की पीठ कर्नाटक संकट पर विधान सभा अध्यक्ष और कांग्रेस तथा जद (एस) के बागी विधायकों की याचिकाओं पर सुनवाई कर रही है। इन बागी विधायकों की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता मुकुल रोहतगी ने शुक्रवार को न्यायालय को सूचित किया कि विधानसभा अध्यक्ष ने उनके इस्तीफा देने के फैसलों पर अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया है जबकि इस्तीफों को स्वीकार करने के संबंध में उन्हें कोई छूट नहीं प्राप्त है। विधायकों का तर्क था कि उनके इस्तीफे के मामले को लंबित रखने का मकसद उन्हें पार्टी व्हिप के प्रति बाध्यकारी बनाना है। कर्नाटक विधानसभा के अध्यक्ष की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने कानूनी प्रावधानों का हवाला देते हुये कहा कि अध्यक्ष का पद संवैधानिक है और बागी विधायकों को अयोग्य घोषित करने के लिये पेश याचिका पर फैसला करने के लिये वह सांविधानिक रूप से बाध्य हैं।

 266 total views,  2 views today