“नई नियमावली से शिक्षकों में हर्ष बदलाव का संघ करता है स्वागत” – राहुल देव सिंह

“नई नियमावली से शिक्षकों में हर्ष बदलाव का संघ करता है स्वागत” – राहुल देव सिंह

जे टी न्यूज़, मुंगेर :
बिहार विद्यालय अध्यापक संघ ने शिक्षा विभाग द्वारा बीपीएससी के माध्यम से राज्य के सभी प्राथमिक विद्यालयों में प्रधान शिक्षक पद को भरने के लिए जारी नियुक्ति अधिसूचना का स्वागत करते हुए शिक्षा मंत्री श्री विजय चौधरी जी को धन्यवाद दिया है। अंकनीय है कि बीपीएससी द्वारा आयोजित होने वाली प्रधानाध्यापक एवं प्रधान शिक्षक की प्रतियोगिता परीक्षा में उत्तीर्ण योग्य एवं अनुभवी शिक्षक उच्चतर माध्यमिक एवं प्राथमिक विद्यालयों में पदस्थापित किये जायेगें। शिक्षा विभाग के द्वारा इस साकारात्मक पहल से वर्षो से हजारों विद्यालयों में रिक्त पङे प्रधानाध्यापक एवं प्रधान शिक्षक के पद को भरा जाएगा। पूर्व में भी 2022 में इसके लिए नियमावली आई थी लेकिन कई याचिकाओं की एक साथ सुनवाई करते हुए माननीय उच्च न्यायालय ने पुरानी नियमावली को निरस्त कर दिया था। अब पुनः नई नियमावली कैबिनेट से पास की गई है।


बिहार विद्यालय अध्यापक संघ के प्रदेश अध्यक्ष अमित विक्रम एवं महासचिव बलवंत सिंह ने संयुक्त रूप से बताया कि प्रधान शिक्षक की पात्रता के लिए विद्यालय में योगदान तिथि से आठ वर्षों के अनिवार्य शिक्षण अनुभव के शर्त हर्ष व्यक्त करते हुए कहा कि इससे बिहार के सरकारी विद्यालयों में पढा रहे अनुभवी शिक्षक ही पात्र होगें। उन्होंने कहा कि संघ के प्रतिनिधियों की शिक्षा मंत्री के साथ हुई कई दौर की वार्ता का सुखद फल मिला है। इस से पूर्व प्रशिक्षण तिथि से 8 वर्ष शिक्षण अनुभव का प्रावधान था जिसके विरुद्ध संघ ने हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी। सरकार के इस पहल से विद्यालयों में अप्रत्याशित रूप से नियमित कक्षा संचालन के साथ सभी प्रकार के शैक्षणिक गतिविधि के परिचालन से दशा एवं दिशा में बदलाव होगा।


संघ के प्रदेश संगठन महामंत्री राहुल देव सिंह ने नई नियमावली को शिक्षकों एवं शिक्षा दोनों के लिए हितकारी बताते हुए कहा कि नई नियमावली से सभी शिक्षकों में हर्ष है। पूर्व की नियमावली भेदभावपूर्ण एवं विभेदकारी थी। इसी वजह से संघ के द्वारा उसे हाई कोर्ट में चुनौती दी गई थी। उन्होंने विद्यालय अध्यापक संघ की ओर से सरकार के द्वारा शिक्षा हितार्थ इस निर्णय की भूरि-भूरि प्रशंसा करते हुए धन्यवाद ज्ञापित किया

Related Articles

Back to top button