राजद के पूर्व सांसद सरफराज आलम की सभा में लगे “लालू , तेजस्वी और राजद” मुर्दाबाद के नारे

लगने लगा है आरजेडी को झटके पर झटका,असफाक करीम ने थामा जदयू का दामन

राजद के पूर्व सांसद सरफराज आलम की सभा में लगे “लालू , तेजस्वी और राजद” मुर्दाबाद के नारे

लगने लगा है आरजेडी को झटके पर झटका,असफाक करीम ने थामा जदयू का दामन

पटना/डा. रूद्र किंकर वर्मा।

लोकसभा चुनाव 2024 को लेकर राष्ट्रीय जनता दल द्वारा टिकट बंटवारे के बाद एक के बाद एक बड़े नेता राजद से इस्तीफा दे रहे हैं. इस क्रम में अशफाक करीम के बाद वृषिण पटेल ने भी राजद से इस्तीफा दे दिया है. वृषिण पटेल ने इस्तीफा देते हुए आरजेडी पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं. उन्होंने इस्तीफा पत्र में लिखा, आरजेडी को समर्पित कार्यकर्ताओं की कोई जरूरत नहीं है. आरजेडी की सामाजिक न्याय और सांप्रदायिक सद्भाव में कोई आस्था नहीं. दुखित मन से आरजेडी के प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे रहा हूं.
बता दें कि वृषिण पटेल बिहार के वरिष्ठ राजनीतिज्ञों में से एक हैं और कुर्मी जाति के कद्दावर नेताओं में गिने जाते हैं. वह बिहार सरकार में मंत्री रहे हैं और पूर्व में सांसद भी रह चुके हैं. उन्होंने राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह को पत्र लिखकर कहा कि मैंने महसूस किया है कि राष्ट्रीय जनता दल को समर्पित कार्यकर्ताओं की आवश्कता नहीं है. आरजेडी डेमोक्रेसी नहीं सिंगल विंडो सिस्टम चला रही है. सांप्रदायिक सद्भाव और सामाजिक न्याय में भी पार्टी को आस्था नहीं रही. बहुत दुखी मन से पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देता हूं. वृषिण पटेल ने आगे लिखा, तेजस्वी यादव ने जो कुनबा तैयार किया है, वो भविष्य में खुद के लिए कांटा बो रहे हैं, जो उन्हें ही चुभेगा. राजद द्वारा उतारे गए उम्मीदवारों पर उन्होंने कहा कि जनता फैसला करेगी कि क्या करना है. इससे पहले पूर्व राज्यसभा सांसद अशफाक करीम ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया था. अशफाक करीम जेडीयू में
शामिल होंगे.
इधर शुक्रवार को राजद के पूर्व सांसद सरफराज आलम की सभा में लालू यादव,तेजस्वी यादव और राजद पार्टी के नाम पर मंच से मुर्दाबाद के नारे लगे। लोकसभा चुनाव सर पर है। और आर जे डी को चुनाव के बीच हीं लगने लगा झटके पर झटका ।

Related Articles

Back to top button