*धरणा तेरहवां दिन भी जारी रहा, शहर में कचरा नहीं नगर परिषद्, कार्यालय में कचरा भरा पड़ा है :- *लालबहादुर साह।* रमेश शंकर झा के साथ सुरेश कुमार राय की रिपोर्ट, समस्तीपुर बिहार।*

🔊 Listen This News   *हर खबर पर पैनी नजर, हर छोटी बड़ी खबरों या विज्ञापन के लिए 9407616268 पर संपर्क करें।*   रमेश शंकर झा के साथ सुरेश कुमार राय की रिपोर्ट, समस्तीपुर बिहार। समस्तीपुर:- बिहार राज्य स्थानीय निकाय कर्मचारी महासंघ जिला शाखा नगर परिषद समस्तीपुर के कर्मचारियों की ग्यारह सूत्री मांगों को लेकर […]

 285 total views,  1 views today

 


*हर खबर पर पैनी नजर, हर छोटी बड़ी खबरों या विज्ञापन के लिए 9407616268 पर संपर्क करें।*

 

रमेश शंकर झा के साथ सुरेश कुमार राय की रिपोर्ट,
समस्तीपुर बिहार।

समस्तीपुर:- बिहार राज्य स्थानीय निकाय कर्मचारी महासंघ जिला शाखा नगर परिषद समस्तीपुर के कर्मचारियों की ग्यारह सूत्री मांगों को लेकर कार्यालय के समक्ष तेरहवां दिन धरना प्रदर्शन जारी है। वहीँ धरना पर बैठे कर्मचारियों की मांगों की अनसुनी करते हुऐ नगर परिषद के सभापति, उप सभापति एंव सशक्त स्थायी समिति के सदस्यों की उदासीनता के कारण कर्मचारियों आक्रोश से भर गए। जिसमे नगर परिषद की धरणा पर बैठे कर्मचारी जमकर नारेबाजी कर कर रहा था। संघ के सचिव लालबहादुर साह ने घोषणा किया की आगामी 24 मई 2019 तक मांगों की पुर्ति नहीं कीया गया हैं। आन्दोलन को तेज करने पर विचार किया जा रहा है। क्योंकि कार्यपालक पदाधिकारी के कुछ चहेते लोगों द्वारा धर्णार्थियों पर हमले कराने एंव कर्मचारियों को धमकी देकर एक संघठित संघ को तोडऩे की नीयत से साजिश रची जा रही हैं।

संघ के सचिव ने कहा की संघर्ष तबतक जारी रहेगा, जबतक की कमाये हुऐ एक एक पैसे का भुगतान नहीं ले लेते है तबतक संघर्ष जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि मजदूर भूखे पेट बिलबिला रहे है। महाजन ने सौदा देना बंद कर दिया है। और नगर परिषद प्रशासन द्वारा तानाशाही रवैया अपनाकर वेतन तक को मजदूर को लाले कर दिया गया है। गरीब मजदूर पैसे पैसे को मोहताज हो गए है। अपनी मांगों में अठारह माह का बकाया वेतन, छठां वेतनमान के अनुसार करने तथा 1994 से अब तक वेतन से काटी गई राशि जमा करने, अनुकम्पा के आधार पर भुखे मर रहे आश्रितों को बहाल करने एंव पूर्व में किऐ गए समझौते को लागू करने आदि मुख्य मांग है। मांगों को लेकर लगातार आन्दोलन किया जा रहा है। पूर्व की वार्ता समझौता को लागू नहीं किया जा रहा है। महासंघ के सचिव लालबहादुर साह ने धरणार्थियों को संबोधित करते हुए आरोप लगाया की छठे वेतनमान के अनुरूप 18 माह का बकाया वेतन का भुगतान करने के लिए स्थापना लिपिक संजीव कुमार सिन्हा द्वारा चार चार हजार रूपये रिश्वत कर्मियों से लिया जा रहा है। इस काली करतूतों की जांच होनी चाहिए। उन्होंने कहां की नगरपरिषद प्रशासन की लापरवाही से स्वच्छता अभियान पर प्रभाव पर रहा और बाध्य होकर काम बंद कर, आन्दोलन के लिए मजबूर होना पड़ रहा है।उन्होंने कहां की शहर के सड़कों पर अब कचरा नहीं है। कचरा है तो नगरपरिषद कार्यालय में जिसे उठवाकर फेंकवाने की जरूरत है। उन्होने नगरवासियों से अपील कीया है की कर्मियों का कमाया हुआ पैसा का भुगतान कराने में नगरपरिषद कर्मियों को सहयोग करें। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता राजकुमार राम -2 ने कीया। वहीं धरणा के मौके पर सुखलाल यादव, संजू देवी, रेखा देवी, वीणा देवी, रीता देवी, मुन्नर देवी, फुलो देवी, रमेश राम, रंजीत राम ,सुरेश राम, जगदीश राम, चंदन कुमार आदि शामिल हुए। कार्यपालक पदाधिकारी रजनीश कुमार नगर परिषद समस्तीपुर द्वारा निकाय कर्मचारी महासंघ के 11 सूत्री मांगों के संदर्भ मे मिडिया से बात करने के दौरान उनहो ने बताया कि कर्मचारी संघ के सचिव को वार्ता के लिए बुलाया गया है, लेकिन कोई ठोस बात नही हो सका है अभी तक।


*हर खबर पर पैनी नजर, हर छोटी बड़ी खबरों या विज्ञापन के लिए 9407616268 पर संपर्क करें।*

 286 total views,  2 views today