एपीजे अब्दुल कलाम डिग्री कॉलेज की स्थापना से, अल्पसंख्यक छात्रों का होगा भविष्य उज्जवल।

बेतिया।

अल्प संख्यक समुदाय के छात्र-छात्राओं के शिक्षा स्तर को सुधारने के लिए और इनको शिक्षा क्षेत्र में, आगे बढ़ाने के उद्देश्य से, इसी इलाके के रहने वाले, डॉक्टर नौशार आलम , वल्द, खुर्शीद आलम ने ,भारत के पूर्व राष्ट्रपति एवन वैज्ञानिक , मिजाईल मैंन ,डॉ एपीजे अब्दुल कलाम के नाम से,उनकी यादगार में, डिग्री कॉलेज की स्थापना की है,यह डिग्री कॉलेज, एजुकेशनल ट्रस्ट मेमोरियल के द्वारा संचालित किया जाता है, जो अल्पसंख्यक समुदाय, विशेषकर मुस्लिम समुदाय के छात्र छात्रों के शिक्षा स्तर में सुधार करने के लिए स्थापना की है, ताकि मुस्लिम समुदाय के छात्र-छात्राओं में शिक्षा के स्तर को ऊपर उठा कर उनको अच्छी से अच्छी शिक्षा से परिपूर्ण करा कर, इस आधुनिक युग में, कंपटीशन के दौर में ,आगे निकल सके, डॉ एपीजे अब्दुल कलाम डिग्री कॉलेज ,आजादी के बाद तिरहुत प्रमंडल में, यह दूसरा संस्था है, यह डिग्री कॉलेज, पश्चिम चंपारण जिला के, रामनगर प्रखंड के ग्रामीण क्षेत्र,पकड़ी देवराज गांव में अवस्थित है।

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम डिग्री कॉलेज के संस्थापक, निदेशक सह सचिव ने संवाददाता को बताया कि इस कॉलेज के स्थापना के पीछे एक मकसद यह था कि इस पश्चिम चंपारण जिले में, डॉ एपीजे अब्दुल कलाम की स्मृति में ,इनके नाम और कृति को जिंदा रखा जाए, इन्होंने आगे बताया कि इस डिग्री कॉलेज में ,साइंस, आर्ट्स ,और कॉमर्स तीनों फैकेल्टी की पढ़ाई की जाती है, और तीनों फैकेल्टी में, छात्र-छात्राओं का नामांकन किया जाता है,यह डिग्री कॉलेज, बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर यूनिवर्सिटी,मुजफ्फरपुर से संलग्न है। इस डिग्री कॉलेज के खुल जाने से इस क्षेत्र के छात्र छात्राओं को विशेषकर अल्पसंख्यक छात्र-छात्राओं को शिक्षा के क्षेत्र में आगे बढ़ने में एक अग्रणी भूमिका निभा रही है ,और इस क्षेत्र के मुस्लिम छात्र छात्राओं के लिए एक मिसाल बन गई है, इसमें विशेषकर मुस्लिम छात्राओं के नामांकन पर विशेष जोर दिया गया है ताकि मुस्लिम समुदाय की लड़कियों की शिक्षा के क्षेत्र में, आगे बढ़ाया जा सके और उनको शिक्षा के क्षेत्र में किसी स्तर से भी पीछे नहीं रहना पड़े, आज के इस आधुनिक कंप्यूटर के युग में, ऑनलाइन पढ़ाई करके, नेट के माध्यम से,और देश व विदेश में जाकर अच्छी शिक्षा प्राप्त कर, इस कंपटीशन के दौर में, आगे निकल सके और अपनी रोटी रोजी की तलाश में शिक्षा के माध्यम से उच्च कोटि के पद पर आसीन हो सकें। विदित हो कि विगत वर्षों में, डॉक्टर नौशर आलम के द्वारा इसी स्थान पर, बृष्ण पटेल इंटर कॉलेज की स्थापना की थी, इतना ही नहीं, यह इंटर कॉलेज बिहार सरकार के रिकॉर्ड में अल्पसंख्यक इंटर कॉलेज के नाम से दर्ज है, जो बिहार शिक्षा बोर्ड पटना से भी संलग्न है, जिससे इस क्षेत्र के छात्र छात्राओं को शिक्षा ग्रहण करने में काफीआसानी हुई है, और सैकड़ों की संख्या में, छात्र-छात्राएं इस कॉलेज से, शिक्षा ग्रहण करके करके, डिग्री लेकर लाभान्वित हुई है। इनके द्वारा इस क्षेत्र में, इंटर कॉलेज और डिग्री कॉलेज की स्थापना करके इस क्षेत्र के छात्र छात्राओं, विशेषकर अल्पसंख्यक छात्र-छात्राओं को शिक्षा ग्रहण करने में एक मील का पत्थर साबित हुआ है, डॉक्टर नौशार आलम ने संवाददाता को आगे बताया कि डॉ एपीजे अब्दुल कलाम डिग्री कॉलेज में,सत्र 2021-2024 में नामांकन की प्रक्रिया आरंभ कर दी गई है,जो छात्र-छात्राएं इंटर पास कर चुकी हैं, वह स्नातक की डिग्री प्राप्त करने के लिए इस डिग्री कॉलेज में अपना नामांकन करा सकती हैं, इससे इस क्षेत्र के छात्र छात्राओं, विशेषकर ,अल्पसंख्यक छात्राएं को स्नातक की डिग्री प्राप्त करने में बड़ी आसानी होगी।

Edited By :- savita maurya

Leave A Reply

Your email address will not be published.