विभूतिपुर विधायक अजय कुमार ने जिले के एसपी पर लगाए गंभीर आरोप

जिले के एसपी ने घटना को लिया काफी हल्का में साथ ही मामले को दिग्भ्रमित करने का किया प्रयास

विभूतिपुर विधायक अजय कुमार ने जिले के एसपी पर लगाए गंभीर आरोप

जिले के एसपी ने घटना को लिया काफी हल्का में साथ ही मामले को दिग्भ्रमित करने का किया प्रयास

22 sept 2021

खुद एसपी या समकक्ष अधिकारी आजतक घटनास्थल पर नहीं पहुँचे जांच करने,ना ही आजतक सीसीटीवी फुटेज को ही खंगाला ,आखिर क्यों ?

जेटी न्यूज
समस्तीपुर: विभूतिपुर विधायक ने मंगलवार को अपने साथ हुए घटना को लेकर एक प्रेस रिलीज जारी किया है जिसमे उन्होंने बताया कि शनिवार की रात्रि लगभग 10.30बजे अपराधियों द्वारा सीपीआईएम जिला कार्यालय ,स्टेशन रोड ,समस्तीपुर का गेट तोड़ कर मेरी हत्या के उद्देश्य से घुसा ।

मेरे सुरक्षा गार्ड अनिल राम द्वारा किए गए त्वरित कार्रवाई से मेरी जान बची।लेकिन अपराधियों के हमला में अनिल गंभीर रूप से जख्मी हो गया।
जिसका मैं ने मुकदमा दर्ज किया है। उक्त मामले में एसपी साहब समस्तीपुर का प्रेस ब्यान है जिससे प्रतीत होता है की उन्होंने घटना को काफी हल्का से लिया है।साथ ही मामला को दिग्भ्रमित करने का प्रयास किया है।जो राजनीतिक दबाव को दर्शाता है।
शनिवार को लगभग 2 बजे दिन में मैं विभूतिपुर के गैंग रेप पीड़िता से मिलने समस्तीपुर सदर अस्पताल गया था । आगे विधायक ने कहा की मैं वहां से वापसी के समय मैं BSNL OFFICE समस्तीपुर गया ।वहां से लगभग 3.30 बजे दिन में मैं वापस ऑफिस आया तथा मेरी स्कॉर्पियो अंदर खरी कर दिया जो उसके बाद अभी तक वही खड़ा है।
एसपी साहब समस्तीपुर का यह कहना कि घटना गाड़ी साइड लेने के कारण घटी है।विधायक पर हमला का मामला नहीं है।
इस तरह का बयान कार्यालय में बैठकर देने से पहले उन्हें खुद या अपने किसी सक्षम पदाधिकारी से घटना का निरीक्षण करना चाहिए था।साथ ही साथ तकनीकी जांच भी आवश्यक है।घटना के समय से पहले आस पास लगे सीसीटीवी फुटेज को देखकर भी सत्यता का पता चल जाएगा।और यह स्पष्ट हो जाएगा कि मेरी गाड़ी 3.30बजे दिन के बाद बाहर गई ही नही।इसलिए रोड पर गाड़ी से साइड लेने का विवाद के कारण मारपीट घटना बताना सही नही है।बल्कि पुलिस अपनी नाकामी छुपाने के ख्याल से यह ब्यान दिया है।

जहां तक एसपी साहेब को फोन कर अपराधी को गिरफ्तार नहीं करने की बात एसपी साहब ने कहा है वह गलत है।बल्कि मैं ने कहा कि घटना का वीडियो एक मजबूत साक्ष्य है तथा उसका सत्यापन आवश्यक है।यह बात मैंने राहुल शेखतोली के बारे में की थी ।जिसकी तस्वीर एसपी साहब ने प्रतिनिधि मंडल के सामने दिखाई थी।उस बारे में भी मैने कहा था कि उसका पहचान अनिल गार्ड से होना आवश्यक है।क्योंकि मैं रोड तक नहीं गया था।

 493 total views,  2 views today

image2