उजियारपुर प्रखंड क्षेत्र के हजारों युवा मतदाता पहचान पत्र से वंचित है। रमेश शंकर झा के साथ मणि भूषण की रिपोर्ट, समस्तीपुर बिहार।

🔊 Listen This News     रमेश शंकर झा के साथ मणि भूषण की रिपोर्ट, समस्तीपुर बिहार। समस्तीपुर/उजियारपुर:- जिले के विभूतिपुर लोक सभा चुनाव में अब गिनती के दस दिन शेष बच गया हैं। आगामी 29 अप्रैल को होने वाले चुनाव के लिए प्रचार परवान चढ गया है। विभिन्न दलों के प्रत्याशी जोर-शोर से प्रचार […]

 592 total views,  3 views today

 

 

रमेश शंकर झा के साथ मणि भूषण की रिपोर्ट,
समस्तीपुर बिहार।

समस्तीपुर/उजियारपुर:- जिले के विभूतिपुर लोक सभा चुनाव में अब गिनती के दस दिन शेष बच गया हैं। आगामी 29 अप्रैल को होने वाले चुनाव के लिए प्रचार परवान चढ गया है। विभिन्न दलों के प्रत्याशी जोर-शोर से प्रचार में भीड़ गए हैं और एक दूसरे पर दोषारोपण करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। वहीं दूसरी ओर अभी तक क्षेत्र में नए वोटरों के बीच मतदाता पहचान पत्र का वितरण नहीं होने से युवा असमंजस की स्थिति में है। इसको लेकर नए वोटर सत्यम कुमार, चंदन कुमार, गौरव कुमार, साजन कुमार कुमार, सोनी कुमारी, रंजू कुमारी समेत अन्य ने बताया कि मतदाता सूची में नाम जुड़ गया है। लेकिन अभी तक पहचान पत्र नहीं दिया गया है। बता दें कि लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर मतदान से पूर्व चुनाव आयोग ने मतदाताओं को प्लास्टिक कार्ड पर छपे रंगीन फोटो पहचान पत्र (ईपिक) जारी करते हुए उसके वितरण का निर्देश जारी किया था। जिसमें प्रशासन की ओर से सभी संबंधित मतदाता के बीच ईपिक का वितरण ससमय कर दिए का दावा भी किया गया था। लेकिन अब भी प्रखंड के अधिकांश ऐसे युवा मतदाता हैं, जो ईपिक से वंचित हैं। इसका कारण निर्वाचन आयोग द्वारा जारी किए गए कलर वोटर आईडी कार्ड का वितरण नहीं किया जाना बताया जाता है। ऐसी स्थिति में युवाओं को ईपिक से मतदान करने की तमन्ना शायद इस बार भी अधूरी रह जाएगी। प्रखंड क्षेत्र के हजारों युवा मतदाता पहचान पत्र से वंचित है। आज तक बीएलओ या फिर प्रखंड निर्वाचन पदाधिकारी ने इस ओर ध्यान हीं नहीं दिया है। कई ऐसे मतदाता भी हैं जो वर्षों पूर्व से अपने मताधिकार का प्रयोग करते चले आ रहे हैं। लेकिन आज तक पहचान पत्र नहीं मिल सका है। उनकी मानें तो वह कई बार बीएलओ के पास विहित प्रपत्र भर कर दिया। लेकिन निराशा ही हाथ लगी है। इस संबंध में पूछे जाने पर बीडीओ धीरज कुमार ने बताया कि पहचान पत्र नहीं रहने से मतदान प्रभावित नहीं होगा। लेकिन मतदाता पहचान पत्र रहना चाहिए। इसमें ग्रामीणों या बीएलओ की शिथिलता हो सकती है। बीएलओ द्वारा अगर इस तरह की लापरवाही बरती गई है तो इसकी शिकायत सीधे प्रखंड मुख्यालय परिसर स्थित पुस्तकालय भवन में बने निर्वाचन कार्यालय से संपर्क कर सकते हैं। पहचान पत्र और मतदाता पर्ची वितरण करने के लिए चुनाव में 215 बीएलओ को तैनात किया गया है। पहचान पत्र वितरण का काम जल्द ही पूरा कर लिया जाएगा।

 593 total views,  4 views today