बेखौफ अपराधियों का तांडव पान दुकानदार की गोली मारकर की हत्या

अपराधी के सामने जिला पुलिस दिख रहें फिसड्डी दिन हो रात गोलियों के बौछार से गूंजता है शहर

रामाधार साहनी

बेगूसराय :- बिहार में इस समय कोरोना महामारी की रोकथाम के लिए नीतीश सरकार लगातार दिशा निर्देश जारी कर रहें हैं, इसी का नतीजा है कि रात्रि में नाइट कर्फ्यू लगा हुआ है दूसरी ओर जिलें में अपराधी बेलगाम दिख रहें हैं। मामला है बेगूसराय जिले के मुफस्सिल थाना क्षेत्र की जहां अपराधियों ने एक दुकानदार को गोलियों से छलनी कर फरार हो गया और पुलिस मामले की छानबीन में लग गयी। घटना जिलें के मुफस्सिल थाना क्षेत्र के खम्हार ढ़ाला के पास देर शाम गोली मारकर हत्या कर दी। इस घटना के बाद क्षेत्र में सनसनी फैल गई वहीं परिजनों में कोहराम मचा हुआ है। मृतक की पहचान खम्हार गांव निवासी रामदेव सिंह के पुत्र गोपाल सिंह के रूप में किया गया है। बताया जाता है कि मृतक गोपाल अपना पान की दुकान बंद कर घर जा रहा था उसी वक्त अपराधियों ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर गोली मारकर हत्या कर दिया।गोली बारी आवाज सुनकर जब तक ग्रामीण घटनास्थल की स्थल दौड़ा अपराधी हथियार लहराते हुए मौके से फरार हो गया। घटना के बाद परिजनों ने पुलिस के खिलाफ जमकर हंगामा किया और अस्पताल में भी बवाल काटा , परिजनों ने आरोप लगाया कि यह घटना पुलिस की लापरवाही कारण घटी। पुलिस अगर लापरवाही नहीं करतीं तो ऐसा घटना कभी नहीं घट सकता था। क्षेत्र में स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है। पुलिस की ओर से अपराधियों को जल्द गिरफ्तार करने की बातें करतें हैं। बताते चलें कि बेगूसराय जिलें में अपराधियों के द्धारा लगातार तांडव जारी है सुबह में जहां नगर थाना क्षेत्र के एमआरजेडी कॉलेज के पास दिनदहाड़े एक युवक को गोली मारकर घायल कर दिया वहां भी घटना के बाद पुलिस प्रशासन के विरुद्ध आक्रोश देखीं जा रही थी क्योंकि बेगूसराय जिलें में अपराधी बेखौफ दिख रहें हैं। जहां पिछले कुछ दिनों का देखें तो फुलवड़िया थाना क्षेत्र में एक व्यवसाई को गोली मार दी थी। वहीं अपराधियों के कहर से तेघरा थाना क्षेत्र भी सुरक्षित नहीं दिखा जहां अपराधियों ने नोनपुर गांव में एक व्यक्ति को गोली मार दी जो कि गोली हाथ में लगीं थीं। जिला के बुद्धिजीवी वर्ग के मानें तो बताते हैं कि अब जिलें की स्थिति ऐसी बनी हुई है कि घर से निकलने के बाद पता नहीं कौन व्यक्ति वापस अपने घर लौट सकेगा या फिर मौत के आगोश में समा जाएं। पुलिस जहां लगातार किसी ना किसी को गिरफ्तार कर मामले का उद्धभेदन करने का दावा करतें हैं वहीं अपराधी भी पुलिस को चुनौती देने से पीछे नहीं दिख रहें हैं और जिलें में लगातार घटना को अंजाम दें रहें हैं और पुलिस के विश्वसनीयता पर भी सवाल खड़े हो रहें हैं। लावारिस लाशों की बरामदगी कहें या गोलियों की बौछार जिलें में अवश्य अशांति छाई हुई है। पुलिस अवश्य कुछ गिरफ्तारी कर फूले नहीं समाते हैं।

Edited By :- savita maurya

Leave A Reply

Your email address will not be published.