15 जून तक नहीं खुला विश्वविद्यालय का मुख्य द्वार तो पूरे मिथिलांचल में होगा कुलपति के खिलाफ आंदोलन :- धीरेन्द्र झा

मुख्य द्वार बंद कर विश्वविद्यालय के कुलपति दे रहे तानाशाही का परिचय :- आइसा

स्टेट मैनेजर वीरेंद्र सिंह के कार्यशैली के खिलाफ आइसा ने फूंका पुतला, किया धरना-प्रदर्शन।

जे टी न्यूज़ -: डाॅ. राजेन्द्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय पूसा का मुख्य गेट खोलने समेत विवि में हुई नियुक्ति, विकास योजनाओं में धांधली इत्यादि की जांच की मांग को लेकर आइसा कार्यकर्ताओं ने विश्वविद्यालय के मुख्य द्वार के सामने कुलपति के खिलाफ धरना – प्रदर्शन किया। इसके बाद स्टेट मैनेजर वीरेंद्र सिंह की कार्यशैली के खिलाफ कार्यकर्ताओं ने पुतला फूंका। इस दौरान आयोजित सभा की अध्यक्षता आइसा प्रखंड अध्यक्ष रौशन कुमार व संचालन भाकपा-माले प्रखंड सचिव अमित कुमार ने किया। कार्यकर्ताओं ने स्टेट मैनेजर वीरेद्र सिंह व कुलपति के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की ।
मुख्य वक्ता के रूप में मौजूद भाकपा-माले पोलित ब्यूरो सदस्य सह मिथिलांचल प्रभारी धीरेंद्र झा ने कहा कि स्थानीय जनता के साथ विश्वविद्यालय के कुलपति नाइंसाफी कर रहे हैं। यदि 15 जून तक विश्वविद्यालय का मुख्य द्वार नहीं खुला तो पूरे मिथिलांचल में कुलपति के खिलाफ आंदोलन होगा। जिसकी गूंज दिल्ली में सुनाई देगी।

आगे श्री झा ने कहा कि विवि के कुुुुलपति की तानाशाही और लूटशाही का मामला लोकसभा में भी उठेगा। उन्होंने कहा कि विवि में हुई नियुक्तियों में बड़े पैमाने पर धांधली हुई है। नियुक्तियों की जांच एवं भ्रष्टाचार से देश-विदेश में अर्जित कुलपति की अकूत संपत्ति की जांच की भी मांग लोकसभा में की जाएगी । मौके पर दरभंगाा जिला के माले नेता पप्पूू पासवान, माले नेता महेश सिंह, सुरेेेश कुुुुमार, जितेन्द्र राय समेत कल्याणपुर माले प्रखंड सचिव दिनेश सिंह, जिला कमिटी सदस्य मनीषा कुमारी सहित आइसा नेता गंगा पासवान, प्रीति कुमारी, जितेंद्र सहनी, राजू झा , दीपक कुमार, ललित सहनी, मोहम्मद फरमान, सुधांशु कुमार, राजन कुमार,संतोष कुमार, मोहम्मद जावेद,अभिषेेक कुमार, रवि कुमार, राजेश कुमार बूटन, रवि रौशन, मोहम्मद एजाज, कन्हैया कुमार, गोलू कुमार इत्यादि मौजूद थे। रौशन कुमार आइसा प्रखंड अध्यक्ष पूसा सह जिला उपाध्यक्ष समस्तीपुर।

अमरदीप नारायण प्रसाद की रिपोर्ट

 298 total views,  2 views today

Leave A Reply

Your email address will not be published.