*कल्याणपुर प्रखंड क्षेत्र में बिजली विभाग में लाखों की अवैध वसूली। सब पे नजर सबकी खबर, हमसे जुड़ने के लिए:- ८७०९०१७८०९, ९४७०६१६२६८, ९४३१४०६२६२ पर संपर्क करें।*

  कार्यालय संवाददाता समस्तीपुर बिहार। समस्तीपुर:- जिले के कल्याणपुर प्रखंड क्षेत्र के ध्रुवगामा गांव में बिजली विभाग की ओर से लापरवाही और भ्रष्टाचार होने की खबर है। इस गांव के लोग बताते हैं कि इस गांव का ट्रांसफार्मर खराब होने की वजह से बिजली सेवा कई दिनों ठप है। बिजली विभाग को शिकायत पत्र इस […]

 


कार्यालय संवाददाता
समस्तीपुर बिहार।

समस्तीपुर:- जिले के कल्याणपुर प्रखंड क्षेत्र के ध्रुवगामा गांव में बिजली विभाग की ओर से लापरवाही और भ्रष्टाचार होने की खबर है। इस गांव के लोग बताते हैं कि इस गांव का ट्रांसफार्मर खराब होने की वजह से बिजली सेवा कई दिनों ठप है। बिजली विभाग को शिकायत पत्र इस मामले में देने के बाद भी बिजली विभाग के अधिकारियों द्वारा कोई भी उचित कदम नहीं उठाया गया है। वहीँ आए दिन खराब ट्रांसफार्मर बदलने के नाम पर चंदा वसूली की जा रही है। इस चंदा वसूली में बिजली विभाग के कुछ अधिकारी ध्रुवगामा गांव निवासी लोग एवं कुछ गणमान्य लोग भी इस चंदा के नाम पर गैरकानूनी और जबरन अवैध वसूली किया जाता। इस गांव के लोगों का आरोप है कि हमसे 500 रु० ट्रांसफार्मर बदलने के नाम पर लिए गया है, नहीं देने पर कुछ भी बदलाव नहीं किया जाएगा। डरे और सहमे हुए लोग के सामने और कोई रास्ता ना दिखने की वजह से वह चंदा दे रहे हैं।

जब इसकी जानकारी हमारे संवाददाता ने जे ई ई से बात कीया तो जेईई ने अपना बचाव करते कहा कि इस मामले में एसडीओ साहब से बात किया जा रहा है। एसडीओ से बात करने पर हमारे संवाददाता ने पाया की अवैध वसूली करने वाले के खिलाफ एक जांच बुलाई जाएगी और दोषी पाने पर तुरंत एफ आई आर किया जाएगा। इस गांव के लोगो ने कहा की एक लाइनमैन से लेकर बिजली विभाग के आला अधिकारी भी इस गोरखधंधे में शामिल है। वहीँ धुर्वगमा ग्राम पंचायत के मुखिया राजेश कुमार ने दूरभाष पर कहा कि पैसा वसूली नहीं किया गया है। बल्कि जो गांव के लोग टोकी लगाकर बिजली जलाते थे उनसे पैसा लिया जाता है।क्योंकि हटाने के लिए पैसा लिया गया है। वहीं दूसरी ओर भारतीय जनता पार्टी के नेता मुकेश कुमार ने दूरभाष पर बताया कि मेरे पहल पर ट्रांसफार्मर बदला गया है। परंतु सरकारी कर्मचारी नहीं रहने के कारण जो व्यक्ति द्वारा प्राइवेट काम किए जाने पर पैसा लिया गया है। गांव के मुखिया से लेकर विभिन्न दल के नेताओं द्वारा अवैध वसूली कीया जात है।