मुखिया के खिलाप नल जल योजना की राशि गवन करने का आरोप

जेटी न्यूज मधुबनी।

जिले के लखनौर प्रखंड क्षेत्र स्थित मदनपुर पंचायत के मुखिया के विरुद्ध इसी पंचायत के वार्ड नंबर-पांच के वार्ड सदस्य संतोष पंडित ने डीएम को आवेदन देकर धोखाधड़ी एवं नल-जल योजना की राशि का गबन करने का प्रयास करने का आरोप लगाया है। जिला पदाधिकारी अमित कुमार ने उक्त आरोप को गंभीरता से लेते हुए झंझारपुर के एसडीओ को जांच करने का आदेश दिया है। डीएम ने झंझारपुर के एसडीओ को आदेश दिया है कि संतोष पंडित द्वारा परिवाद पत्र में उठाए गए बिदुओं की जांच कर अपने मंतव्य के साथ जांच रिपोर्ट जिला पंचायत कार्यालय को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करेंगे। ताकि दोषियों के विरुद्ध नियमानुकूल कार्रवाई की जा सके।जिला पदाधिकारी को समर्पित परिवाद पत्र में मदनपुर पंचायत के वार्ड संख्या-पांच के वार्ड सदस्य संतोष पंडित ने उल्लेख किया था कि इस वार्ड में नल-जल योजना के क्रियान्वयन के लिए वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति के नाम बैंक ऑफ इंडिया की झंझारपुर शाखा में खाता है।

वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति के अनुमोदन के बाद मदनपुर के मुखिया सुरेश कुमार यादव ने तीन अप्रैल 2020 को प्रथम किस्त के रुप में पांच लाख रुपये एवं 27 जुलाई 2020 को द्वितीय किस्त के रुप में पांच लाख रुपये नल-जल योजना का क्रियान्वयन के लिए वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति के खाता में हस्तांतरित किया था। इसके बाद मुखिया ने आकर्षक मूल्य एवं उत्कृष्ट सामान की आपूर्ति का भरोसा देकर मां दुर्गा इंटरप्राइजेज, झंझारपुर के नाम से दो चेक क्रमश: 4.92 लाख रुपये एवं 4.91 लाख रुपये का वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति के अध्यक्ष एवं सचिव से हस्ताक्षर करवा कर ले लिया। लेकिन नल-जल योजना कार्य संपादन के लिए सामग्री की आपूर्ति करने में मुखिया द्वारा टाल-मटोल किया जाने लगा। बाद में पता चला कि मां दुर्गा इंटरप्राइजेज, झंझारपुर की संचालिका मुखिया सुरेश कुमार यादव की पत्नी ही है। वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति के अध्यक्ष एवं सचिव के हस्ताक्षर से जो उक्त राशि का जो चेक मुखिया ने लिया था, उसे मां दुर्गा इंटरप्राइजेज के नाम से संचालित खाता में जमा कर राशि की निकासी भी कर ली गई।

 

सामान की आपूर्ति के लिए कहने पर जान से मारने एवं गलत मुकदमा में फंसाने की धमकी भी दी गई। इस मामले से लखनौर के बीडीओ को अवगत कराया जा चुका है। इसके अलावा भी डीएम को दिए गए परिवाद पत्र में संतोष पंडित ने कई आरोप लगाया है। अब तो आरोपों की जांच के बाद ही पता चलेगा कि वार्ड सदस्य संतोष पंडित द्वारा उक्त मुखिया के विरुद्ध लगाए गए आरोपों में कितनी सच्चाई है। बहरहाल डीएम ने उक्त आरोपों का बिदुवार जांच कर मंतव्य के साथ जांच रिपोर्ट जिला पंचायत कार्यालय को उपलब्ध कराने का निर्देश झंझारपुर के एसडीओ को दिया है। मामले की जांच होने के बाद ही पता चलेगा की आरोपों में कितना दम था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.